संदेश

सामाजिक पिछड़ेपन के कारण

चित्र
पढ़ाई का बीच में छूट जाना आदिवासी समाज चूंकि हमेशा से ही पढ़ाई लिखाई से वंचित रहा हैै। शायद इसीलिए समाज में कभी शैक्षणिक माहौल नहीं बन पाया। श्रम प्रधान समाज होने के कारण शारीरिक परिश्रम करके जीवन यापन को तवाज्जू दी गई। जैसे कि खेती करना, मजूरी करना, भार ढोना आदि। हर वो काम जिसमें ज्यादा बल की जरूरत होती हैं। आर्थिक रूप से कमज़ोर होने के कारण अच्छे स्कूलों को अफोर्ड नहीं कर सकते। आदिवासी समाज के मैक्सिमम बच्चों का एडमिशन सरकारी स्कूलों में करा दी जाती है। सरकारी स्कूलों का पढ़ाई का स्तर क्या है हम सभी को पता है। इसमें किसकी गलती है उसमें नहीं जाना चाहता। चुकीं हम पढ़ाई में खर्च नहीं करते , इसीलिए इसकी शुद्धि भी नहीं लेते। हमने तो बच्चे का एडमिशन करा करके अपने जिम्मेवारी से मुक्ति पा लिया। बच्चे का पढ़ाई लिखाई कैसे चल रही है इसका खबर भी नहीं लेते।  समय के साथ जरूरतें भी बढ़ती है। शारीरिक श्रम करके एक अकेला या परिवार उतना नहीं कमा पाता। ज्यादा कमाने के लिए ज्यादा संख्या और ज्यादा शारीरिक बल की आवश्यकता होती हैं। फिर क्या बच्चे भी श्रम कार्य में उतर जाते हैं। और फिर बाहर के प्रदेशों में श

समाज से परे रहना नामुमकिन

चित्र
मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है।  मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। सामाजिक प्राणी इसीलिए  क्योंकि हम समाज से परे बहुत लंबे समय तक सरवाइव नहीं कर सकते। हमें अपने जैसे लोगों के साथ रहने की आदत है। हम सामाजिक बंधनों से बंधे हुए होते हैं। हम अपने परिजनों, सगे संबंधियों , करीबियों और दोस्त यारों से जुड़े हुए होते हैं। हम समाज से ही अपने रिश्ते को निभाना सीखते हैं। हम अपने समाज से ही मानवीय गुणों को ग्रहण करते हैं। हम अपने समाज से ही चलना बोलना, रहन सहन  और धार्मिक मान्यताओं को सीखते हैं। हमारी शिक्षा दीक्षा समाज में ही होती है। जीवन  जीने के सभी आवश्यकताओं की पूर्ति हम समाज से ही करते हैं।  समाज से हम है या समाज हमसे हैं। ये बड़ा विरोधाभास वाली बात है। दोनों ही बातें पूर्णता सही भी नहीं हैं और पूर्णता गलत भी नहीं।  चलिए इसे हम समझने की कोशिश करते हैं। ज्यादातर मामलों में हम जिस समाज से आते हैं उस समाज की छाप हम पर दिखाई देती है। क्योंकि हम समाज के जिस परिवेश में रहते हैं उस परिवेश का असर हमारे व्यक्तित्व पर पड़ता है। चाहे नकारात्मक हों या सकारात्मक , बिना प्रभावित हुए बच नहीं सकते।  जीवन जीने की शै

अच्छे कामों को आसान और बुरे कामों को मुश्किल बनाएं

चित्र
  Past, वर्तमान का आधार होता है। प्रत्येक मनुष्य का वर्तमान स्थिति उनके द्वारा जीवन में लिए गए सही या गलत फैसलों का समुच्चय होता है। हमारा भूतकाल वर्तमान का आधार होता है। हमारे जितनी भी फ़ैसले होते हैं सभी कहीं ना कहीं पहले किये गया कार्यों से प्रेरित होता है। हमारे द्वारा किये गए हर एक अच्छा काम नेक्स्ट अच्छा काम को कंटिन्यू करने को प्रेरित करता है। हमारे द्वारा किये गए बुरे काम बुरा काम को जारी रखने को प्रेरित करता है।मतलब साफ है ।आज अच्छा करोगे तो कल अच्छा होगा और आज बुरा करोगे तो कल बुरा होगा।  अगर कोई मनुष्य महीने का 10000 रुपए कमाता है। इसका मतलब है कि वह उतना ही कमाने के लायक है। अगर उसमें ज्यादा काबिलियत होगी तो  वह अपना earnings को भी बढ़ा लेगा। otherwise fixed रहेगी या फिर कम होती जाएगी।हमारे द्वारा अर्जित धन हमारी काबिलियत का पैमाना होता है। हमारी वर्तमान स्थिति हमारी  (past )भूतकाल की कार्य प्रणाली की जानकारी देता है। हमारी earnings भी हमारे योग्यता के हिसाब से कम या ज्यादा हो सकता है। यह पूर्ण रूपेण हम पर निर्भर करता है। हम मनुष्य की फितरत होती है कि किस तरह से कम मेहनत कर

अपने बच्चों के लिए रोल मॉडल बनें

चित्र
  अपने बच्चों के लिए रोल मॉडल बनें अगर समाज में संरचनात्मक  बदलाव लाना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने बच्चों के लिए रोल मॉडल बनना पड़ेगा । अपने बच्चों को संस्कारी बनाने के लिए बच्चों के समक्ष कोई ऐसा काम नहीं करना है, जिनसे उनके दिमाग में नेगेटिव छाप पड़े। बच्चों का पहला पाठशाला घर से ही शुरु होता है और पहला  शिक्षक मां बाप और परिवार के अन्य सदस्य होते हैं। बच्चों में देखकर सीखने की क्षमता सबसे अधिक होती है। बच्चों में अच्छे और बुरे की फर्क नहीं होती है । उनके सामने जो कुछ भी हो रहा होता है उनको बड़े गौर से देख रहे होते हैं । बच्चों के संस्कार या आदत बिल्डिंग में हम अभिभावकों का बहुत बड़ा हाथ होता है। क्योंकि जैसा हम बच्चों को माहौल और परिवेश देंगे बच्चे वैसे ही होंगे। यदि हम में कोई गंदी आदत होगी तो निश्चित तौर से वही आदत कालांतर में हमारे बच्चों में परिलक्षित होगी। बच्चों के द्वारा अर्जित संस्कार हमारे संस्कारों का ही आइना होता है। गलत आदतों का चक्र अपने आपको तब तक दोहराते रहता है जब तक उसे तोड़ा ना जाए। उदाहरण के लिए मान लीजिए।  मेरे दादा (2nd) जी ने अपने पिता(1st)को दारु पीते हुए देखा

सामाजिक नशाखोरी एक बुराई(III)

चित्र
सामाजिक नशाखोरी के दुष्प्रभाव सामाजिक नशखोरी के पहले और दूसरे अध्याय में "नशाखोरी क्या है इसकी शुरुआत कैसे होती है ? लत क्या है? और लत की पहचान कैसे होती है? के बारे विस्तृत जानकारी प्राप्त की।  तीसरे अध्याय में इसके दुष्प्रभाव के बारे में जानेंगे। उत्पादकता में कमी चुकी लगातार नशीली पदार्थों के प्रयोग करने से हमारे  शारीरिक स्वास्थ्य पर इसका  बूरा असर पड़ता है। कहा भी जाता है ना स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। सोचने समझने की शक्ति कम होने लगती है। हमारे क्रिएटिविटी का इस पर डायरेक्ट असर पड़ता है। जिस काम के लिए लोग हमें अप्रोच किया करते थे , दूर होते चले जाते हैं।  क्योंकि उन्हें पता होता है कि एक शराबी आदमी कभी भी 100 परसेंट dedication और concentration के साथ में काम नहीं कर सकता। एक शराबी आदमी का कार्य करने का दायरा सीमित होने लगता है।  लड़ाई झगड़ा एक शराबी व्यक्ति शराब पीने के बाद में एक अलग ही दुनिया में रहता है। बहुत ही ज्यादा सेंटिमेंटल(sentimental) और सेंसिटिव (sensitive)हो जाता है। हमारे साथ बीती हुई सभी घटनाएं आज के ही दिन याद आने लगती है। छोटी-छोटी  बा

सामाजिक नशाखोरी(II)

चित्र
लत क्या है और इसकी पहचान क्या है? सामाजिक  नशाखोरी के अध्याय एक में हमने नशाखोरी के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करी और साथ ये भी जाना कि नशाखोरी की शुरुवात कैसे होती है। दूसरे अध्याय में  लत क्या होती है और लत की पहचान कैसे करें इसके बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। लत के तो अनेकों रूप है । लेकिन यहां नशा के कारण उत्पन्न लत की बातें करेंगे। नशीली पदार्थों  के लगातार उपयोग के कारण हमारे मस्तिष्क के न्यूरोलॉजिकल पैटर्न में ऐसे बदलाव , जो नशीली पदार्थों के उपयोग पर हमारा नियंत्रण समाप्त कर देता है। ऐसी बात भी नहीं, कि नशा, बहुआयामी बर्बादी का कारण बनता है उसकी जानकारी हमें नहीं है। इसका दुष्परिणाम हमारे शरीर में दिखने भी लगता। इसके अलावा हमारे पारिवारिक रिश्ते, आर्थिक स्थिति और कामकाज में भी असर पड़ने लगता है। साफ शब्दों में कहें तो नशा पर अपना सेल्फ कंट्रोल खत्म हो जाता हैं। नशाखोरी के दलदल में दिन-प्रतिदिन हमारा पैर धसते चला जाता हैं। सब कुछ पता होने के बावजूद हम असहाय और लाचार महसूस करते हैं। ऐसी अवस्था को ही लत/व्यसन कहा जाता है। लत एक्चुअली और कुछ नहीं, हमारे द्वारा नशाखोरी

सामाजिक नशाखोरी(I)

चित्र
नशाखोरी समाज के लिए अभिशाप है।  नशाखोरी एक सामाजिक बुराई है। इसके गिरप्त में बच्चे ,युवा और बुजुर्ग सभी हैं। भारत युवाओं का देश है। युवाओं का संलिप्तता इसमें सबसे ज्यादा है। युवा शक्ति का इससे प्रभावित होना, समाज या देश के उत्पादकता में कमी होना है। सामाजिक स्तर से पूरा देश नशाखोरी जैसे मानसिक बीमारी से पीड़ित है। समाज और देश के लिए यह एक अभिशाप से कम नहीं है। अल्कोहल पेय पदार्थों का (विस्की, चुलैया ,महुआ ,ब्रांडी, बीयर और हंडिया  आदि अल्कोहोल पेय पदार्थ है ) लगातार ज्यादा मात्रा में consumption को ही नशाखोरी कहा जाता है।हमारे समाज को नशा की लत लग चुकी हैं।  नशा नाश करता है। नशा आप किसी भी रूप में लें हमेशा बर्बादी का कारण ही बनता है। ये बर्बादी बहुआयामी होता है।हमारी उत्पादकता पर सीधा असर पड़ता है। शारीरिक, मानसिक ,आर्थिक और सामाजिक इन सभी क्षेत्रों से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।  सबसे ताज्जुब की बात यह है कि बियर और हड़िया(राइस वियर) को हम शराब की श्रेणी में रखते ही नहीं। अजीबों गरीब तर्क देकर इसको लेने को जस्टिफिकेशन करते हैं। मैं आपको बता दूं की यह भी अल्कोहल पेय पदार्थ