जैसा जड़ वैसा फल

 कल्पना कीजिए कि जीवन एक पेड़ है।पेड़ में लगे फल की तुलना उस परिणाम से कीजिए जिसको कि हमने अपने जीवन के विभिन्न पड़ावों में प्राप्त किया है। इस फल को लेकर हमारी अक्सर यह शिकायत रहती है कि फल कम है, हमें और मिलना चाहिए था, आकार में भी काफी छोटा है , स्वाद भी कुछ खास नहीं है। अक्सर हम ऊपर देखने वाली फल की ही चर्चा करते हैं और यह हमेशा भूल जाते हैं कि फल तो बीज और जड़ों के कारण उत्पन्न होती है। जो की जमीन के नीचे दबी हुई होती है, दिखाई नहीं पड़ती।


कहने का मतलब साफ है कि अगर गुणवत्तापूर्ण दिखाई देने वाली फल की चाह रखते हैं,तो सबसे पहले दिखाई नहीं देने वाली बीज और जड़ के बेहतरी के लिए काम करना होगा ।फल तो अपने आप ही उनके मुताबिक बदल जाएगा। हम अक्सर दिखाई देने वाली चीजों को ही सच मान बैठते हैं जो कि बिल्कुल ही गलत है।

जो चीजें हमें दिखाई नहीं देती उसके अस्तित्व पर ही सवाल खड़ा कर देते हैं।

मै कुछ उदाहरण प्रस्तुत करना चाहूंगा।

बिजली हमें दिखाई नहीं देती है। लेकिन उसके शक्ति के बारे में हम सभी परिचित हैं और हम बिल भी पे करते हैं।

किसी चुंबक की चुम्बकीय शक्ति हमें दिखाई नहीं देती लेकिन उसी अदृश्य शक्ति से मोटर चलता है। हवा भी हमें दिखाई नहीं देती लेकिन उसकी इंपोटेंस के बारे में हम सबको पता है। इसी तरह से सैकड़ों उदाहरण है जो दिखाई तो नहीं देती मगर अस्तित्व में है। 

हमारे जीवन को प्रभावित करने वाली बहुत सी ऐसी अदृश्य चीजें हैं जो दिखाई देने वाली चीज़ों से कहीं ज्यादा शक्तिशाली हैं। जो मनुष्य अदृश्य शक्ति का उपयोग करना सीख गया। मानो वो जीवन में बहुत कुछ हासिल कर लिया।

जो चीजें जमीन के नीचे होती हैं वही चीजें ऊपर की दिखाई देने वाली चीजों का निर्माण करती है।

यहां पर जमीन के बीज और जड़ का मतलब हमारे आंतरिक संसार से हैं। 

पृथ्वी की ऊपरी सतह पर दिखाई देने वाली हरे-भरे जंगल, खेतों की हरियाली, हरे बगीचे में लगे फलों और सुंदर महकते फूलों को अंदर की चीजों ने ही बनाया।

जो फल पेड़ में लग चुके हैं उसके बारे में ज्यादा सोच कर परेशान होने की जरूरत नहीं है। क्योंकि जो हो गया, उसको बदला तो नहीं जा सकता है ना। हां लेकिन एक बात है,भविष्य में लगने वाली फल की गुणवत्ता बढ़ाने वाली योजना में काम कर सकते हैं।इसके लिए हमें जमीन की ठीक से खुदाई करनी होगी। सिंचाई की व्यवस्था करना होगा। अच्छी बीज का चयन करना होगा। जड़ को मजबूती प्रदान करनी होगी।


क्योंकि अंदर की चीज ही बाद में ऊपर आती है। इसीलिए कहा भी जाता है ना, जैसा बोगे वैसा ही काटोगे। बबूल बो के हमें आम का उम्मीद नहीं करनी चाहिए।





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिवासियों से दुनियां क्या सीख सकती है।

सामाजिक नशाखोरी(I)

ट्रस्ट का bylaws कैसे बनायें