अभी नहीं तो फिर कभी नहीं

लाखों करोड़ों साल से इस पृथ्वी पर मानव निवास करता आ रहा है। तब से लेकर आज तक मनुष्य, जरूरत की चीजों का इजात करता रहा है। जीवन जीने की तौर-तरीकों में आश्चर्यजनक परिवर्तन हुआ है। यह किसी चमत्कार से कम नहीं है। इसका केवल और केवल एक ही कारण है, और वह कारण है, अपने अस्तित्व को कायम रखते हुए जीवन जीने की आवश्यकता की पूर्ति हेतु निरंतरता के साथ बौद्धिक शक्ति का इस्तेमाल करना और आने वाले पीढ़ियों तक पहुंचाना (upcoming generation)। क्योंकि आज तक जो कुछ भी हमने सीखा है ,पूर्वर्ती (ancestors) लोगों को देखकर ही सीखा और उनके द्वारा अर्जित ज्ञान को आधार बनाकर कुछ नया करने की कोशिश करते हैं। तब से लेकर आज तक यही प्रक्रिया लगातार चलती ही आ रही है। किसी भी काम विशेष को निरंतरता के साथ करते रहने पर कार्यकुशलता (work Efficiency) के साथ  परिपक्वता (Maturity) बढ़ती हैं। दुनियां में हर रोज कुछ ना कुछ नया होता है जो पहले कभी नहीं हुआ । इस बदलाव का असर हम सभी पर पड़ता है। 

 हमारे जीवन को सरल बनाने में सबसे ज्यादा अगर किसी का योगदान है तो वह हैं वैज्ञानिकों (sciencetist) का। कोई भी ऐसा क्षेत्र नहीं हैं जिस पर वैज्ञानिकों ने काम नहीं की हों। हर वो भौतिक चीजों को बनाकर वैज्ञानिकों ने हमें दी हैं जो हमारे जीवन को सरल और सुगम बनता हैं। वैज्ञानिकों ने पूरे दुनिया को एक ग्लोबल विलेज में बदल दिया है। हम कभी भी ,किसी से भी , कहीं से भी देख सुन और बातचीत कर सकते हैं। हमने भौतिक दूरियों पर विजय प्राप्त कर लिया है।हमारे पास यातायात की अनेकों साधन उपलब्ध हैं। आज हम अंतरिक्ष तक पहुंच चुके हैं। दुनियां का शायद ही कोई कोना ऐसा होगा जिसको मनुष्य ने एक्सप्लोर ना किया हो। मनुष्य ने अधिकतम ऊंचाई और अधिकतम गहराई दोनों को फतेह कर लिया है। 
कृषि के क्षेत्र में अगर हम बात करें तो पाएंगे की अभी के समय में हमारे पास अत्याधुनिक कृषि उपकरण मौजूद है। घंटों का काम को हम मिनटों में कर दे रहे हैं। सिंचाई के लिए हमारे पास अत्याधुनिक इरिगेशन सिस्टम है। हमारे पास उन्नत बीज और खाद उपलब्ध है। इन सब चीजों ने कृषि उत्पादकता को कई गुना बढ़ा दिया है।

अगर हम खबरों की बात करें तो देश दुनिया की खबर हम घर बैठे ही देख सकते हैं। देश दुनिया में घट रही घटनाओं से हम रूबरू हो सकते हैं। सोशल मीडिया नेटवर्क हमें न्यूज को न्यूज एजेंसियों से भी पहले दे देती हैं।
इंटरटेनमेंट के लिए सैकड़ों टीवी चैनल हमारे पास उपलब्ध है। खेल की सारी चैनल हमारे पास उपलब्ध है। मूवी देखने के लिए आज हमें कहीं और जाने की जरूरत नहीं होती। Entertainment की सारी सुविधाएं आज हमारे घर में ही उपलब्ध है।

चिकित्सा क्षेत्र में आज हम बहुत आगे बढ़ चुके हैं। हमारे पास चिकित्सीय जांच करने के लिए ऐसे ऐसे उन्नत चिकित्सीय यंत्र है जिसकी कार्यप्रणालियां किसी चमत्कार से कम नहीं है। हमारे पास सैकड़ों असाध्य मर्ज की दवा उपलब्ध है।
अगर हम बात करें शिक्षा की तो शिक्षा प्राप्त करने की सैकड़ों वर्चुअल प्लेटफार्म उपलब्ध है। सभी विषयों के जानकार ऑनलाइन उपलब्ध है। हमें किसी गुरु के पास जाने की जरूरत भी नहीं है। एजुकेशन की सभी जानकारियां इंटरनेट पर उपलब्ध है। बस हमें सर्चिंग आना चाहिए। अभी के समय में पढ़ाई लिखाई से संबंधित कोई भी टॉपिक अनसोल्वड नहीं है। सभी टॉपिक्स की विस्तृत जानकारियां उपलब्ध है। अगर हमें किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त करनी हो हर तरह की जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध है। अभी के समय में स्मार्टफोन किसी यूनिवर्सिटी से कम नहीं हैं।

अभी के समय में घर बनाने की उन्नत से उन्नत तकनीकियां हमारे पास उपलब्ध है। जिसकी मदद से हम आलीशान घर बना सकते हैं। 

घर में उपयोग होने वाले ऐसे ऐसे उपकरण है जो हमें  गर्मी में शीतलता का एहसास दिलाती है और कड़ाके की ठंड में गर्मी का एहसास दिलाती है। काली अंधेरी रात को चीरने वाली प्रकाश है हमारे पास। सोने के लिए मखमली बिस्तर है। खाना पकाने के लिए इलेक्ट्रिक स्टोव और एलपीजी गैस उपलब्ध है।

इन सब उदाहरणों के द्वारा मैं यह कहना चाहता हूं कि अभी के समय में मनुष्य जाति का जीवन कितना सरल हो गया है। रोजमर्रा के कामों को करने के लिए हमारे पास सभी उपयोगी चीजें हैं। मनुष्य पृथ्वी पर अभी जिस कालखंड में रह रहा है वह गोल्डन एरा है। पृथ्वी पर इस तरह की स्थितियां कभी नहीं रही। देश में शासन संविधान के आधार पर चलता है। वृहद स्तर की लड़ाइयां अब नहीं होती। लड़ाइयों के दुष्परिणाम क्या होते हैं सभी को पता है। सभी इनसे बचना चाहते हैं। देश चलाने के लिए सभी देशों की अपनी-अपनी संविधान है। संविधान के दृष्टि से सभी मनुष्य एक समान है। सविधान सभी को समानता का अधिकार देती है। संविधान के द्वारा किसी को भी विशेषाधिकार प्राप्त नहीं है। पहले के समय में जिसकी लाठी उसकी भैंस वाली स्थिति थी। संविधान सभी को प्रतिनिधित्व का मौका देता है। संविधान के बाहर कोई भी चीज नहीं होती। सविधान की व्यवस्था को बनाए रखने में ही संपूर्ण सिस्टम काम करती है। 

इतनी सारी सुविधाओं के बारे में यहां जो हमने चर्चा की। क्या निम्न स्तर के लोगों तक यह सभी चीजें पहुंच पाई है। क्या उन्हें इन सभी चीजों के बारे में जानकारी भी है। अगर नहीं है तो क्या कारण है। इसका जिम्मेदार कौन है। यह सभी चीजें निम्न तबके के लोगों के लिए किसी विलासिता से कम नहीं है।
इसका केवल और केवल एक ही कारण है और वह है गरीबी और अशिक्षा। जागरूकता की कमी। हमें अपनी स्थिति के लिए किसी दूसरे को दोष नहीं दे सकते। इसका जिम्मेवार हम खुद होते हैं। अपनी स्थिति को सुधारने के लिए अभी के समय में हमारे पास अभी चीजें उपलब्ध है। हमें उसका उपयोग करना होगा। काम करने के परंपरागत तौर तरीके को बदलना होगा। हमें ऑटोमेशन का उपयोग करना होगा। हमें शिक्षा पर ध्यान देना होगा। अगर जीवन जीने की उपयोगी स्किल सीखना हो तो सभी चीजें इंटरनेट में उपलब्ध है। बस हमें सीखने की ललक होनी चाहिए। कहीं और जाने की जरूरत नहीं है। 

अभी के समय में अगर आप कुछ करना चाहते हैं और कुछ हासिल करना चाहते हैं तो उस मंजिल को हासिल करने में आपको कोई नहीं रोक सकता। कुछ नहीं करके हम समय को अपना दुश्मन बना लेते हैं। अभी के समय में करने को काम की कोई कमी नहीं है। और किसी भी काम को करने के लिए एक से बढ़कर एक हमारे काम को आसान कर देने वाली साधन उपलब्ध है। किसी भी चीज की जानकारी या स्किल्ड होने के लिए और इस स्किल को बताने वाले गुरुओं की कोई कमी नहीं है। हमें यह नहीं आता, यह हम से नहीं होगा, इस तरह की अनेकों बहाना लिए फिरते हैं। दरिद्रता अभाव और अशिक्षा का सबसे बड़ा कारण अगर कोई है तो वह खुद हम हैं। खुद हम अपने आपका दुश्मन बन बैठे हैं। अगर हमारे पास किसी चीज की कमी है तो यह कमी हमें यह बताती है कि हमें उस कमी को पूरा करने के लिए काम करना चाहिए। उसके बारे में जानकारी एकत्रित करना चाहिए। और यथोचित काम करना चाहिए।

अभी के समय में हर चीज की जानकारी वेब में तैर रही है। जानकारी की भाषा की बाध्यता तो अब रही ही नहीं। हर तरह की जानकारी जनसामान्य की भाषा में उपलब्ध है। सिर्फ हमें यह डिसाइड करना है कि हमें चाहिए क्या। हमें वेब सर्चिंग करने का तरीका आना चाहिए। इसके लिए हमें टेक्निकली अवेयर होने की जरूरत है। इंटरनेट में हमें अपनी ही जरूरत की चीजों को खोजना आना चाहिए। इंटरनेट में हम 1 दिन में घंटों समय बिता देते हैं लेकिन अपने काम की कोई भी चीज नहीं सीखते या कहें कि हम सीखना ही नहीं चाहते। इंटरनेट में जानकारियों का अंबार है। अभी के समय के जैसा पहले कभी नहीं था। यहां पर सब उनके लिए एक ही प्रकार का जानकारी उपलब्ध है। उन जानकारियों को हासिल करने के लिए कोई आप को रोकता नहीं है और रोकेगा भी नहीं। फिर भी हम अपने आप को गुणवत्तापूर्ण या अपने स्किल को ठीक नहीं करते। ऐसे ही समय को फालतू की चीजों में बर्बाद करते रहते हैं।


इस लेख को लिखने का मेरा सिर्फ एक ही उद्देश्य था कि अगर आपको कोई भी चीज सीखने की ललक है तो उसे सीखने में आपको कोई नहीं रोक सकता और उस चीज से संबंधित सभी जानकारियां हमारे पास उपलब्ध है। इतनी सारी साधनों और जानकारियों के रहते हुए भी अगर हमने कुछ नहीं सीखा तो हम अपने आप के सबसे बड़े दुश्मन हैं। इसीलिए मैं लास्ट में कहना चाहूंगा अगर अभी नहीं हुआ तो फिर कभी नहीं होगा।

धन्यवाद।

यह लेख आपको कैसी लगी ,कॉमेंट में जरूर लिखेगा। अगर कोई सुधार की जरूरत है तो अवश्य अवगत कराइए। और साथ में इसी तरह के लेख के साथ जुड़े रहने के लिए हमें Sarna Billie को फॉलो अवश्य करें।





टिप्पणियाँ

Unknown ने कहा…
Good sir,es line se enargi milti hai,,

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिवासियों से दुनियां क्या सीख सकती है।

सामाजिक नशाखोरी(I)

ट्रस्ट का bylaws कैसे बनायें